नक्सली हमलों के बीच सम्पन्न हुआ प्रथम चरण पर मतदान, 20 सीट पर राज्य में 70.87 फीसदी हुवा मतदान

Breaking Posts

6/trending/recent

Hot Widget

Type Here to Get Search Results !

Ads

Footer Copyright

नक्सली हमलों के बीच सम्पन्न हुआ प्रथम चरण पर मतदान, 20 सीट पर राज्य में 70.87 फीसदी हुवा मतदान

नक्सली हमलों के बीच सम्पन्न हुआ प्रथम चरण पर मतदान, 20 सीट पर राज्य में 70.87 फीसदी हुवा मतदान

पहले चरण के मतदान के लिए लगभग 1 लाख सुरक्षाकर्मी किये गये थे तैनात



छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव का पहला चरण 7 नवम्बर को संपन्न हुआ, इस चुनाव में नक्सली बस्तर में बड़ी घटना को अंजाम देने के फिराक में थे पर जवानों ने मुंहतोड़ जवाब देकर उनके मनसूबे पर पानी फेर दिया। 

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के पहले चरण में 20 सीटों पर वोटिंग मंगलवार 7 नवम्बर को हुई, जो शाम पांच बजे संपन्न हो गई है। राज्य में 70.87 फीसदी मतदान हुआ, इस बीच राज्य में कई जगह छिटपुट घटनाएं भी देखने को मिली हैं। पुलिस के मुताबिक गंगालूर मार्ग पर नक्सलियों और पुलिस के बीच मुठभेड़ हुई, जिसमें कई नक्सली घायल हुए हैं, जवानों के ड्रोन कैमरे में नक्सली अपने घायल साथियों को कंधे में ढोकर ले जाते दिख रहे हैं। मुठभेड़ के दौरान जवानों के एंबुश में माओवादी बुरे फंसे. पदेडा में नक्सलियों को मुंह की खानी पड़ी. बता दें कि आज दोपहर विधानसभा चुनाव के दौरान सर्चिंग पर निकले जवानों और नक्सलियों के बीच गंगालूर मार्ग पर मुठभेड़ हुई थी। जवानों को भारी पड़ता देख नक्सली उल्टे पैर भागने को मजबूर हुए थे। वीडियो में दिख रहा कि नक्सली काफी संख्या में जवानों पर हमला करने पहुंचे थे. जवानों की फायरिंग में शुरुआती मुठभेड़ में ही 2 नक्सली घायल हो गए और माओवादी उल्टे पैर भाग निकले।

दिनभर सर्चिंग में 13 आईईडी बरामद

वही कल बीजापुर जिले में दिनभर सर्चिंग के दौरान जवानों ने कुल 13 आईईडी बरामद किए हैं। मतदान के दौरान मतदान दल और जवानों को नुकसान पहुंचाने नक्सलियों ने अलग-अलग इलाके में आईईडी प्लांट किए थे, मौके पर बीडीएस की टीम ने बरामद आईडी को निष्क्रिय किया। सुकमा जिले में नक्सलियों ने आईईडी विस्फोट किया, जिसमें सीआरपीएफ का एक कमांडो घायल हो गया। वहीं, सुकमा जिले के बांडा मतदान केंद्र के पास नक्सलियों और सुरक्षाकर्मियों के बीच हल्की गोलीबारी हुई।

नारायणपुर जिले के ओरछा थाना क्षेत्र में सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच एक और मुठभेड़ हुई. पुलिस का कहना है कि इन दोनों घटनाओं में सुरक्षाकर्मियों को कोई नुकसान नहीं हुआ। पहले चरण में जिन 20 सीटों पर चुनाव हुआ है उनमें से 10 पर सुबह 7 बजे मतदान शुरू हुआ और दोपहर तीन बजे संपन्न हो गया। बाकी 10 सीटों पर वोटिंग सुबह 8 बजे शुरू हुई और शाम 5 बजे खत्म हुई।

पहले चरण के लिए 5,304 चुनाव बूथ बनाए गए थे और 25,249 मतदान कर्मियों को तैनात किया गया। मोहला-मानपुर (दुर्ग संभाग), अंतागढ़, भानुप्रतापपुर, कांकेर, केशकाल, कोंडागांव, नारायणपुर, दंतेवाड़ा, बीजापुर और कोंटा (सभी बस्तर संभाग में) में मतदान सुबह 7 बजे शुरू हुआ और दोपहर 3 बजे तक जारी रहा। ये सीटें नक्सली इलाके की हैं, वहीं, खैरागढ़, डोंगरगढ़, राजनांदगांव, डोंगरगांव, खुज्जी, बस्तर, जगदलपुर, चित्रकोट, पंडरिया और कवर्धा में मतदान सुबह 8 बजे शुरू हुआ और शाम 5 बजे तक जारी रहा।

एक लाख सुरक्षाकर्मी किए गए थे तैनात

पुलिस का कहना है कि 12 विधानसभा क्षेत्रों वाले बस्तर संभाग में मतदान के लिए लगभग 60,000 सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए थे, जिनमें 40,000 केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल (सीएपीएफ) के और 20,000 राज्य पुलिस जवान शामिल हैं। पहले चरण के मतदान के लिए लगभग 1 लाख सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए। सुरक्षा कारणों से बस्तर संभाग के पांच विधानसभा क्षेत्रों के 149 मतदान केंद्रों को नजदीकी पुलिस स्टेशन और सुरक्षा शिविरों में शिफ्ट किया गया। 90 सदस्यीय राज्य विधानसभा के लिए दूसरे और अंतिम चरण में शेष 70 सीटों पर 17 नवंबर को मतदान होगा।पहले चरण के लिए 70.87% मतदान दर्ज किया गया है।



Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad

Ads Bottom